Responsive Ads Here

मंगलवार, 7 जुलाई 2020

how to choose a domain name| एक डोमेन नाम का चुनाव कैसे करें।

एक डोमेन नाम इंटरनेट पर आपकी वेबसाइट के स्थान को परिभाषित करता है। जिस तराह लोग आपको आपके नाम से जानते है उसी तराह इंटरनेट मे आपके वेबसाइट की पहचान के लिए एक नाम होना जरुरी है जिसे हम डोमेन नाम कहते है अब ऐसे मे बहोत से लोगो नहीं जानते की डोमेन क्या है। उदाहरण के लिए, www.technicalmyfriend.in टेक्नीकल माय फ्रेंड के लिए यह डोमेन नाम है। और इंटरनेट मे आपके वेबसाइट या ब्लॉग की पहचान के लिए आपके पास एक डोमेन होना चाहिए।

अपनी वेबसाइट के लिए एक डोमेन चुनना एक महत्वपूर्ण पहला एसईओ कदम है। और आपको अपने वेबसाइट या ब्लॉग या किसी प्रकार के ब्रांडिंग नाम हो उस से मेल खाने वाले डोमेन नाम को चुनाव करने की आवश्यकता है। आम तौर पर, एसईओ के लिए सबसे अच्छा डोमेन छोटा और यादगार होता है। क्योंकि डोमेन को याद रखने में एक अनूठा, आसान लिंक बिल्डिंग और ब्रांडिंग में मदद करता है। इसीलिए डोमेन छोटा चूने बढ़िया रहेगा।
Free Subdomains v/s Custom Domains
एक Free subdomain (research09.blogpost.com) और कस्टम डोमेन (www.technicalmyfriend.in)  एक free subdomain हमेशा आपकी एसईओ क्षमताओं को सीमित करेगा। और आपकी ब्लोग वेबसाईट सर्च इंजन में रेंकिंग नहीं कर पाएगा। क्योंकि Google और अन्य सर्च इंजन इन डोमेन को स्टार्टर साइटों के रूप में पहचानते हैं। और एसईओ मैट्रिक्स सफाई से रोल नहीं करते हैं। और विजीटर्स को भी आपका free subdomain देख कर पेड कस्टम डोमेन नाम की तरफ चले जाते हैं। क्योंकि आपके पोस्ट टाईटल से मिलता जुलता होता है और अपने तरफ आकर्षित करता है। और विजीटर्स चले जाते हैं।
Blogspot blogs के लिए कस्टम डोमेन क्यो जरूरी है।

और एक कस्टम डोमेन नाम के साथ आपकी सामग्री, लिंक और एसईओ सिग्नल सभी एकत्र किए जाएंगे और आपकी साइट पर केंद्रित होंगे और सीधे एसईओ वृद्धि पर लागू होंगे। और आपके ब्लॉग वेबसाईट पर अच्छी पोस्ट है तो सर्च इंजन में भी रेंकिंग करेगा और विजीटर्स को भी आपका कस्टम डोमेन नाम देखकर एकट्रकटीव लगेगा और वो आपकी ब्लोग वेबसाईट पर पोस्ट को देखेंगे अच्छा लगता है तो पढ़ेंगे भी और इस तरह से आपका ट्राफीक भी बढ़ेगा। उम्मीद करता हूं आपलोग समझ गऐ होगें free subdomain और custom domain में क्या अंतर है।


Generic and Country Code Top-Level Domains
एक शीर्ष स्तर डोमेन (TLD) आपके डोमेन नाम का अंत है, जैसे .com या .net।  सभी जेनेरिक TLD (gTLD) Google द्वारा समान रूप से व्यवहार किए जाते हैं। इसलिए TLD से संबंधित कोई अंतर्निहित रैंकिंग मूल्य नहीं है। जब तक कि आप किसी निश्चित देश में रैंक नहीं करना चाहते जहां Google आपकी साइट के देश कोड टॉप-लेवल डोमेन के आधार पर विशिष्ट भौगोलिक क्षेत्रों में डिफ़ॉल्ट होगा (  ccTLD) कनाडा के लिए .ca की तरह।
और जब तक आप नहीं चाहते कि आपकी साइट किसी विशिष्ट देश में रैंक करे, आपको एक gTLD के साथ जाना चाहिए क्योंकि ये आगंतुकों द्वारा पहचाने और भरोसेमंद हैं और वैश्विक स्तर पर रैंक करने का बेहतर मौका है। उदाहरण के लिए, यदि आप यूएस में हैं, तो। TLD से अधिक .com लेने के लिए बेहतर है यदि आपका डोमेन नाम उस TLD के तहत उपलब्ध है।  इसका मतलब यह नहीं है कि ccTLD दूसरे देशों में रैंक नहीं कर सकता है, इसका मतलब यह है कि आपके पास कुछ अतिरिक्त इंटरनेशनल एसईओ होना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपका ccTLD दुनिया भर में सही तरीके से दिखाया गया है।
Choosing a Domain
Generic TLDs
  • .com
  • .net
  • .org
  • . info

Country/Region Specific TLDs
  • .co.uk - UK
  • .ca - Canada
  • .nl - Netherlands
  • .de - Germany
  • .es - Spain
  • .us - United States
  • .eu - European Union​

अतिरिक्त जानकारी


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यदि आपको ये आर्टिकल उपयोगी लगा हो तो इसको Facebook और whatsup पर शेयर और कमेंट करना ना भूले।

Disclaimer : इस Technical my friend को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह navinmandal402@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।