शनिवार, 11 मई 2019

Web hosting क्या है ? और कैसे work करता है।

क्या आपको पता है? वेब होस्टिंग क्या है? अपना खुदका एक website होना बहुत बड़ी बात है। Website को maintain कर पाना सबके बस की बात नही। इसके लिए proper knowledge का होना बहुत ज़रूरी है। Website बनाने केलिए बहुत सी चीज़ों को ध्यान मे रखना होता है। जैसे आपके website के लिए domain name और hosting का होना बेहद ज़रूरी है। जिसके वजह से हमारे website को पहचान मिलती है।
इसलिए आज में इस लेख मे आपको होस्टिंग मीनिंग इन हिंदी के बारे मे ही जानकारी दूँगा। की और ये कितने प्रकार के होते हैं। ताकि आप अपने वेबसाइट के लिए सही hosting चुन सके।

Web hosting सारे websites को Internet मे जगह देने की सेवा प्रदान करता है। जिसके वजह से किसी एक व्यक्ति या organization के website को पूरी दुनिया मे Internet के ज़रिए access किया जा सकता है। जगह देता है। से मेरा मतलब है। की आपके website के files, images, videos, etc को एक special computer पे store करके रखता है। जिसको हम web server कहते है।
वो computer हर वक़्त 24×7 Internet से connected हो कर रहता है। Web hosting की सेवा हमे बहुत सारे companies प्रदान करते है। जैसे Godaddy, Hostgator, Bluehost, etc. और इनको हम web host भी कहते है। एक हिसाब से हम ये भी कह सकते है। की अपने वेबसाइट को दूसरे high powered computers (web servers) मे store करके रखने के लिए हम उन्हे किराया देते है। जैसे हम किसी अंजान के घर मे रहने के लिए किराया देते है। ठीक उसी तरह।

वेब होस्टिंग work कैसे करता है?

जब हम अपना website बनाते है। तो हम यही चाहते है। की हम अपना knowledge और information लोगों के साथ बाटें shere करें। तो उसके लिए हमे पहले अपने files को web hosting पर upload करना पड़ता है। ऐसा कर लेने के बाद जब भी कोई Internet यूज़र अपने web browser(Mozilla Firefox, Google Chrome, Opera) पे आपका domain name टाइप करता है। जैसे कि मान लीजिए https://technicallyfriend.in, फिर उसके बाद Internet आपके domain name को उस web server से जोड़ देता है। जहाँ आपके website का फाइल्स पहले से ही store हो कर रखा गया है। जोड़ने के बाद website का सारा information उस यूज़र के कंप्यूटर मे पहुँच जाता है। फिर वहाँ से यूज़र अपने ज़रूरतो के हिसाब से पेज को view करता है। और Read करतें है।
Domain Name को hosting में जोड़ने केलिए DNS(Domain Name Syatem) का इस्तिमाल किया जाता है। इससे domain को ये पता चलता है। आपका website कौनसे web server में रखा गया है। क्यूँकी हर server का DNS अलग अलग होते है।

यह भी पढ़ें :-
google se online paise kaise kamaye

फेसबुक लेटेस्ट टिप्स और ट्रिक्‍स

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यदि आपको ये आर्टिकल उपयोगी लगा हो तो इसको Facebook और whatsup पर शेयर और कमेंट करना ना भूले।

Disclaimer : इस Technical my friend को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह navinmandal402@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।