रविवार, 10 मार्च 2019

आईए जानते है। क्या है Augmented, Virtual और Mixed Reality

तकनीकी क्षेत्र में पिछले कुछ वर्षों में कई बदलाव किए गए हैं। इन बदलावों के चलते दुनिया को देखने का नजरिया भी बदल चुका है। इन तकनीकों ने लोगों को तकनीक के साथ बेहतर इंटरेक्शन की अनुमति दी है।
Augmented Reality (AR)
ऑगमेंटेड रियलिटी में तकनीक की सहायता से आपके आसपास के वातावरण की तरह एक डिजिटल दुनिया बनाई जाती है। यह देखने में एकदम वास्तविक लगता है। इस तकनीक का इस्तेमाल डिजिटल गेंमिग, शिक्षा, सैन्य प्रशिक्षण, इंजीनियरिंग डिजाइन, रोबोटिक्स, शॉपिंग, और चिकित्सा के क्षेत्र में किया जा रहा है। यह तकनीक कैमरा के जरिए काम करती है।

Virtual Reality (VR)
वर्चुअल रियलिटी, ऑगमेंटेड रियलिटी के विपरीत है।
इस तकनीक को गेमिंग में तो इस्तेमाल किया ही जाता है। 3D movie का आनंद ले सकते है। लेकिन इसे प्रोफेशनल ट्रेनिंग जैसे डॉक्टर, पायलट और हॉस्टपीटेलिटी सेक्टर में भी इस्तेमाल किया जाता है। आपको बता दें कि यह तकनीक काफी महंगी है और हर कोई इसे अफोर्ड नहीं कर सकता है।

Mixed Reality (MR)
मिक्स्ड रियलिटी प्लेटफॉर्म को माइक्रोसॉफ्ट द्वारा पेश किया गया है। इस तकनीक को होलोलेंस के साथ उपलब्ध कराया गया है। इस तकनीक में हेडसेट के साथ कैमरा अटैच रहता है। ऑगमेंटेड रियलिटी के लिए इस्तेमाल किया गया कैमरा वर्चुअल रियलिटी इफेक्ट बनाता है। AR और VR से इसे बेहतर और माना जाता है। यह आने वाले समय में इंडस्ट्री वर्क्स और मेडिकल प्रोफेशनल्स के काम आ सकती है।

यह भी पढ़ें

असूस की ओर से भारतीय बाजार में मौजूद स्मार्टफोन की कमतों में कटौती कर दी गई है।

Oppo R17 Pro खरीदने की चाहत रखने वाले यूज़र के लिए खुशखबरी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यदि आपको ये आर्टिकल उपयोगी लगा हो तो इसको Facebook और whatsup पर शेयर और कमेंट करना ना भूले।

Disclaimer : इस Technical my friend को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह navinmandal402@gmail.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।